स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें

शनिवार, 23 जुलाई 2011

मुकेश की याद में


आज मशहूर गायक मुकेश की जन्मतिथि है.  मुकेश का पूरा नाम मुकेश चन्द्र माथुर था.

 लुधियाना के एक कायस्थ परिवार में 22 जुलाई 1923 को इस मशहूर गायक का जन्म हुआ. 1974 में उनको सर्वश्रेष्ठ गायक का राष्ट्रीय पुरस्कार फिल्म "रजनीगंधा" के लिए दिया गया. हिंदी फिल्म के शो मेन कहे जाने वाले राज कपूर पर फिल्माए गए लगभग सभी गीत मुकेश ने ही गाये है. "चाहे वह मेरा जूता है जापानी" या "एक दिन बिक जायेगा माटी के मोल ". उन्होंने एक से एक सुन्दर गीत हमको विरासत में दिए है जो अपना महत्वपूर्ण स्थान रखते है. 

15 मई  2003  को उनके सम्मान में भारत सरकार द्वारा एक डाक टिकट भी जारी किया  गया.
 आज मुकेश के जन्मदिन पर प्रस्तुत है उनका एक दुर्लभ गीत और साथ ही  साथ एक प्रसिद्द कर्णप्रिय गीत  भी. आप भी सुनिए .


 अच्छा तो लगा ही होगा . मुकेश के तो सभी गीत अच्छे है.

19 टिप्‍पणियां:

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

मुकेश मेरे प्रिय गायक.कल दिनभर मुकेश के ही गीत सुने हैं.मुकेश-जयंती पर उनकी स्मृति में यह प्रस्तुति नि:संदेह सराहनीय.27 अगस्त को मुकेश-पुण्यतिथि पर एक लम्बी पोस्ट की अपेक्षा रहेगी.

Vijai Mathur ने कहा…

गायक मुकेश जी की माता जी नर्हयी,लखनऊ से संबन्धित थीं। उनके गीत और उनका वर्णन दोनों ही अच्छे हैं।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

मुकेश जी के सभी गीत बहुत ही अच्छे लगते हैं। आज के गायक उनके आस पास भी नहीं ठहरते।

सादर

संजय भास्कर ने कहा…

मुकेश जी के सभी गीत बहुत ही अच्छे लगते हैं।

Maheshwari kaneri ने कहा…

मुझे मुकेश जी के सभी गीत बहुत पसंद हैं..सुनाने के लिए धन्यावाद..

veerubhai ने कहा…

मुकेश हमारे भी फेवरिट रहें हैं पुराने तकरीबन सभी गीत इनके गाये हैं कई मंचों से -मेरे टूटे हुए दिल से कोई तो आज ये पूछे कि तेरा हाल क्या है ...सजनवा बैरी हो गए हमार ...

sm ने कहा…

was a great singer
nice songs

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

इस महान गायक की विरासत और स्मृतियाँ ही अब हमारे बीच शेष हैं |आपकी कलम इसी तरह सुंदर लिखती रहे |बधाई और शुभकामनायें |

mahendra verma ने कहा…

मुकेश के गीतों की धुन बजा बजा कर मैंने वायलिन सीखी है, इस तरह मुकेश मेरे परोक्ष संगीत गुरु रहे।
उनका गीत सुनवाने के लिए आभार।
उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि।

रेखा ने कहा…

आप लोगों को "मुकेश की याद में" पोस्ट अच्छी लगी इसलिए धन्यवाद . अरुण जी मुकेश की पुण्य तिथि पर एक बेहतर पोस्ट लिखने का प्रयास करुँगी.

abhi ने कहा…

कॉलेज में दाखिला के पहले, घर पे जब रहता था, तो मेरे पास अधिकतर कैसेट मुकेश के ही होते थे..जबरदस्त फैन हूँ मैं उनका..कल का दिन तो मुझे याद था..असल में एक पुरानी डायरी है जिसमे पहले पन्ने पे ही मुकेश का एक पुराना फोटो मैंने लगाया हुआ है और उसमे उनकी जन्मतिथि, पुण्यतिथि लिखी हुई है :)

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

कल 25/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

सुनीता शानू ने कहा…

मेरे पसंदीदा गायक हैं मुकेश जी। इससे अधिक क्या लिखा जाये। बहुत-बहुत धन्यवाद।

virendra ने कहा…

मुकेश जी का क्या कहना...आज भी जब मैं उनके गीत सुनता हूँ मन आनंदित हो जाता है, धन्यवाद

Dorothy ने कहा…

मेरे ब्लाग पर आने के लिए धन्यवाद... मुकेश जी के बारे में पढ़कर और सुनकर अच्छा लगा. आभार.
सादर,
डोरोथी.

ZEAL ने कहा…

मुकेश जी की बहुत बड़ी फैन हूँ ! आपकी इस पोस्ट से मन बेहद प्रसन्न है ! मुकेश जी का हर गाना मेरे दिल के बहुत करीब है !

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

बहुत ही सुन्दर,शानदार और उम्दा प्रस्तुती!

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

मुकेश कल भी पसंद किये जाते थे, आज भी और कल भी किये जाते रहेंगे।

............
प्रेम एक दलदल है..
’चोंच में आकाश’ समा लेने की जिद।

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

मुकेश मेरे मनपसंद गायक है .. और मैं उनके गीत गाता भी हूँ .. आपकी ये पोस्ट पढकर बहुत अच्छा लगा .. दिल से बधाई ..

आभार
विजय
-----------
कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html